धूम्रपान करने वाली महिलाओं में 40 की उम्र से पहले मेनोपॉज का खतरा

0
15

नई दिल्ली, 13 मई (आईएएनएस)। डॉक्टरों ने चेतावनी देते हुए कहा है कि महिलाओं में धूम्रपान की बढ़ती दर कम उम्र में ही मेनोपॉज की स्थिति पैदा कर सकती है, जिससे कई तरह के स्वास्थ्य जोखिम पैदा हो सकते हैं।

40 वर्ष की आयु से पहले मेनोपॉज (मासिक धर्म का बंद होना) महिला के स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता पर गहरा प्रभाव डाल सकता है।

एमजीएम हेल्थकेयर में वरिष्ठ सलाहकार, प्रसूति एवं स्त्री रोग, जयश्री गजराज ने आईएएनएस को बताया, ”धूम्रपान से मेनोपॉज समय से पहले आ जाता है, जिससे महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस, हृदय रोग, कैंसर, अवसाद और चिंता जैसे मनोवैज्ञानिक विकार का खतरा बढ़ जाता है।”

तम्बाकू में पाए जाने वाला निकोटीन अंडों की संख्या को कम कर देता है और ओवेरियन रिजर्व में गिरावट को तेज कर ओवेरियन फंक्शन पर हानिकारक प्रभाव डालता है।

फॉलिकल (ओवरी के अंदर एक छोटी-सी फ्लूइड से भरी थैली) की समय से पहले कमी के कारण मेनोपॉज समय से पहले शुरू हो जाता है। यह न केवल प्रजनन क्षमता को प्रभावित करता है बल्कि ओवेरियन फंक्शन में भी गिरावट लाता है।

डॉ. जयश्री ने कहा, “एस्ट्रोजन में कार्डियो-सुरक्षात्मक प्रभाव होते हैं, और इसकी अचानक कमी से कोलेस्ट्रॉल के स्तर, रक्तचाप और वैस्कुलर फंक्शन में प्रतिकूल परिवर्तन हो सकते हैं।”

शोध से पता चलता है कि धूम्रपान करने वाली महिलाएं धूम्रपान न करने वालों की तुलना में लगभग एक साल पहले मेनोपॉज में आ जाती हैं।

मैंगलोर के केएमसी अस्पताल के सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ विद्याश्री कामथ सी ने आईएएनएस को बताया, ”यह देखा गया है कि जो लोग धूम्रपान कर रहे हैं उन्हें कभी न धूम्रपान करने वालों की तुलना में कम उम्र में मेनोपॉज होता है।”

डॉक्टर ने कहा, “धूम्रपान करने से ओवेरियन फॉलिकल की मात्रा या गुणवत्ता कम हो जाती है, इससे प्रजनन वर्षों के दौरान प्रजनन हार्मोन के स्तर में भी बदलाव होता है और इंट्रा यूटेराइन (निःसंतानता का इलाज करने वाली प्रक्रिया) अवधि के दौरान धूम्रपान का संपर्क भी फॉलिकल पूल को प्रभावित कर सकता है और मेनोपॉज के समय को प्रभावित कर सकता है।”

गोवा के मणिपाल अस्पताल में सलाहकार – ओबीजी सोफिया रोड्रिग्स ने आईएएनएस को बताया, “धूम्रपान न करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों में मेनोपॉज के बाद कूल्हे टूटने की संभावना 35 प्रतिशत अधिक होती है। धूम्रपान करने वालों में कूल्हे के फ्रैक्चर का खतरा 15 प्रतिशत अधिक होता है। आप कितनी देर तक धूम्रपान करते हैं, यह आपके फ्रैक्चर के जोखिम को आपके द्वारा धूम्रपान किए जाने की तुलना में अधिक प्रभावित करेगा।”

एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि जो महिलाएं 40 साल की उम्र से पहले मेनोपॉज में प्रवेश करती हैं, उनके कम उम्र में ही मरने की संभावना अधिक होती है। विशेषज्ञों ने कहा कि समय से पहले मेनोपॉज एक गंभीर मुद्दा है और इसके लिए व्यापक शिक्षा और जागरूकता की आवश्यकता है।