फरवरी में दिल्ली और चंडीगढ़ में आयोजित होगा ’20वां इशारा इंटरनेशनल पपेट थिएटर फेस्टिवल’

0
28

नई दिल्ली, 30 जनवरी (आईएएनएस)। 20वां इशारा इंटरनेशनल पपेट थिएटर फेस्टिवल 16 से 25 फरवरी तक नई दिल्ली के इंडिया हैबिटेट सेंटर और चंडीगढ़ के टैगोर थिएटर में होने वाला है।

टीमवर्क आर्ट्स द्वारा प्रस्तुत, यह इशारा पपेट थिएटर ट्रस्ट द्वारा समर्थित है।

इस बार भारतीय कलाकारों के अलावा ब्राजील, स्पेन, कोरिया, तुर्की, अमेरिका, श्रीलंका, ताइवान और रूस के कलाकार शामिल होंगे। मौखिक और गैर-मौखिक दोनों प्रदर्शन महोत्सव का हिस्सा होंगे।

महोत्सव में फ्रांस नेशनल थिएटर, नीस से फैनी टिसोट-जियोर्डाना/कॉम्पैनी आर्केटल द्वारा ‘विंग्स एंड रूट्स’ प्रस्तुत करेगा।

पिया फ्राउस की म्यूजिकल मेनगेरी एयर जायंट्स का निर्देशन ब्राजील के बेटो एंड्रेटा द्वारा किया जाएगा।

अमेरिका से, ‘द कर्ट हंटर मैरियनेट्स’ लौरा विल्हेम द्वारा निर्देशित ‘पेंगुइन इन माई पॉकेट’ नामक एक प्रस्तुति दी जाएगी। रूस के सबसे प्रसिद्ध कठपुतली कैरेक्टर को 400 साल की परंपरा के उत्सव के साथ वापस जीवंत किया जाएगा। पेत्रुस्का का प्रदर्शन नोवोसिबिर्स्क क्षेत्रीय कठपुतली थियेटर द्वारा किया गया और इसका निर्देशन शिवतोस्लाव पैंकोव ने किया है।

‘हिस एंड अर्फ’ ताइवान का एक गैर-मौखिक प्रदर्शन है, जिसे ‘पपेट ऑन द वर्कबेंच’ द्वारा प्रस्तुत किया गया है और मोंग-हान लियांग/चिया-हाओ चेन द्वारा निर्देशित किया गया है।

तुर्की का सेविन्सर पपेट थिएटर याल्सिन गोनेंक द्वारा निर्देशित ‘म्यूसिट’ (आविष्कारक) का प्रदर्शन करेगा।

श्रीलंका से, मैंगो फ्रेंड्स पपेट सोसाइटी द्वारा प्रस्तुत और इंडिका गामिनी द्वारा निर्देशित ‘ट्रेडिशनल स्ट्रिंग पपेट शो’ प्रस्तुत किया जाएगा।

कोरिया की कल्चर आर्ट बेकरी एफएफडब्ल्यूएएनजी ह्वांग सेओकयोंग द्वारा निर्देशित ‘होंग डोंगजी एंड इसिमी’ पेश करेगी।

ब्राजील के ट्रैपस्टरोस टीट्रो इज़ाबेला ब्रोचाडो द्वारा निर्देशित मामुलेंगो डी ला मंच प्रस्तुत करेंगे।

ईशारा पपेट थिएटर ग्रुप दादी डी. पुदुमजी द्वारा निर्देशित ‘बी योरसेल्फ’ पेश करेगा, जो हंस क्रिश्चियन एंडरसन की ‘द अग्ली डकलिंग’ का रूपांतरण है।

महोत्सव निदेशक और ‘द इशारा पपेट थिएटर ट्रस्ट’ के संस्थापक दादी डी. पुदुमजी ने कहा कि 20वां फेस्टिवल एक मील का पत्थर साबित होगा। दुनिया भर के देश इसका हिस्सा होंगे।

टीमवर्क आर्ट्स के प्रबंध निदेशक और महोत्सव के निर्माता संजोय के रॉय ने कहा, “इशारा ने लोगों के कठपुतली बनाने की कला और थिएटर को देखने के तरीके को बदल दिया है। पिछले कुछ वर्षों में अनगिनत कलाकारों और कारीगरों को महोत्सव से लाभ हुआ है।