क्रेमलिन ने यूक्रेन के पावर ग्रिड पर हमलों को उचित ठहराया

0
20

मॉस्को, 11 जून (आईएएनएस/डीपीए)। क्रेमलिन का कहना है कि यूक्रेन के पावर ग्रिड पर हमला एक तरह से उचित है। हमले का उद्देश्य आंशिक रूप से सैन्य सुविधाओं को बिजली की आपूर्ति बाधित करना है।

रूसी समाचार एजेंसियों के अनुसार, क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव ने मंगलवार को कहा, “स्वाभाविक रूप से यह पावर ग्रिड सैन्य बुनियादी ढांचे से जुड़ा है।”

उनसे पूछा गया था कि क्या वह यूक्रेन की ऊर्जा आपूर्ति प्रणाली (एनर्जी सप्लाई सिस्टम) को कानूनी सैन्य लक्ष्य मानते हैं?

इसके जवाब में प्रवक्ता ने अपनी बातें सामने रखी।

रूस ने करीब दो साल पहले यूक्रेन पर आक्रमण शुरू किया था। उस समय से वह नियमित और व्यवस्थित रूप से पड़ोसी देश की ऊर्जा आपूर्ति प्रणालियों पर हमला करता रहा है।

रूसी सेना मार्च से ही यूक्रेन में थर्मल और हाइड्रो-इलेक्ट्रिक पावर प्लांट को निशाना बना रही है। यूक्रेन के राष्ट्रपति वोलोदिमीर जेलेंस्की के अनुसार, 80 प्रतिशत थर्मल पावर प्लांट और एक तिहाई हाइड्रोपावर प्लांट नष्ट हो चुके हैं।

ह्यूमन राइट्स ऑर्गनाइजेशन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने यूक्रेन के ऊर्जा के बुनियादी ढांचे पर हमलों की आलोचना करते हुए युद्ध अपराध बताया है।

यूक्रेन का कहना है कि 2022 में बड़े पैमाने पर रूसी आक्रमण के बाद मिसाइल और ड्रोन हमलों के कारण देश भर में 9 गीगावाट से अधिक पावर प्लांट की क्षमता खत्म हो गई है।

यूक्रेन के विद्युत उत्पादन का आधार भार तीन परमाणु पावर प्लांट पूरा करते हैं, जो अभी भी सरकारी नियंत्रण में हैं।

–आईएएनएस/डीपीए

एफजेड/एबीएम