बाजार को नीतिगत ब्याज दरों में यथास्थिति की उम्मीद

0
22

नई दिल्ली, 4 फरवरी (आईएएनएस)। घरेलू बाजार में आने वाले सप्ताह में निवेशकों की नजर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की नीतिगत बैठक पर रहेगी।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व की नीतिगत दरों की घोषणा और अंतरिम बजट के बाद अब सभी की निगाहें आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक पर होंगी। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा अनुसंधान प्रमुख सिद्धार्थ खेमक को उम्मीद है कि केंद्रीय बैंक ब्याज दरों में यथास्थिति बनाए रखेगा।

उन्होंने कहा, “कुल मिलाकर हमें उम्मीद है कि बाजार सकारात्मक क्षेत्र में रहेगा क्योंकि बजट की घोषणाओं पर सराहनीय डिलीवरी के बीच भावनाएं ऊंची बनी हुई हैं।

निफ्टी शुक्रवार को पूरे सत्र के दौरान सकारात्मक क्षेत्र में रहा और 156 अंक (0.7 प्रतिशत) की बढ़त के साथ 21,854 अंक पर बंद हुआ।

तेल एवं गैस, धातु, पीएसयू बैंक और आईटी में खरीदारी के साथ अधिकांश सेक्टर हरे निशान में बंद हुए।

मध्य पूर्व में युद्धविराम के बीच ब्रेंट क्रूड के लगभग एक महीने के निचले स्तर 78 डॉलर प्रति बैरल पर आने के कारण तेल विपणन शेयरों में तीन प्रतिशत की वृद्धि हुई।

मेटा और अमेज़ॅन द्वारा घोषित मजबूत तिमाही नतीजों के बाद सौदेबाजी के कारण टेक शेयरों में ताजा खरीददारी देखी गई।

उन्होंने कहा कि वित्त मंत्री द्वारा कम उधारी योजना की घोषणा के बाद 10 साल की सरकारी प्रतिभूति पर ब्याज गिरकर आठ महीने के निचले स्तर 7.04 प्रतिशत पर आ जाने के कारण पीएसयू बैंक में दो प्रतिशत से अधिक की बढ़ोतरी हुई।

एचडीएफसी सिक्योरिटीज के वरिष्ठ तकनीकी अनुसंधान विश्लेषक नागराज शेट्टी ने कहा कि निफ्टी की अल्पकालिक तेजी की स्थिति बरकरार है। लेकिन समग्र चार्ट पैटर्न नई ऊंचाई पर उच्च अस्थिरता की संभावना की ओर इशारा करता है। यहां से आगे बढ़ने के किसी भी प्रयास को 22,100 – 22,200 के स्तर के आसपास मजबूत प्रतिरोध का सामना करना पड़ सकता है। इसके परिणामस्वरूप संभवतः उच्च से अल्पकालिक कमजोरी हो सकती है। तत्काल समर्थन 21,700 के स्तर पर है।