नॉर्वे शतरंज: मैग्नस कार्लसन, जू वेनजुन ने जीते खिताब

0
8

स्टावेंजर, 8 जून (आईएएनएस)। मैग्नस कार्लसन और जू वेनजुन ने नॉर्वे शतरंज में क्रमशः पुरुष और महिला वर्ग के खिताब जीत लिए हैं।

कार्लसन और फाबियानो कारूआना ने अंतिम राउंड में अपनी क्लासिकल बाजी ड्रा खेली और विजेता का फैसला आर्मगेडन टाई ब्रेकर से हुआ। कार्लसन ने कारूआना को टाई ब्रेकर में हरा दिया। इस जीत से कार्लसन ने पहले स्थान पर अपना संयुक्त कब्ज़ा सुनिश्चित कर लिया। उन्हें हिकारू नाकामूरा और प्रज्ञाननंदा आर के बीच बाजी के परिणाम का इन्तजार था।

नाकामूरा को शीर्ष पर आने के लिए हर हाल में यह बाजी जीतनी थी। लेकिन मैच ड्रा समाप्त हुआ। 18 वर्षीय प्रज्ञाननंदा ने टाई ब्रेक जीता और नॉर्वे शतरंज में अपने पदार्पण में नाकामूरा के बाद तीसरे स्थान पर रहे।

अलीरेजा फिरोजा डिंग लिरेन का मुकाबला भी ड्रा रहा और अलीरेजा ने टाई ब्रेक में बाजी जीती।

इन परिणामों के साथ, कार्लसन ने अपना छठा नॉर्वे शतरंज खिताब जीत लिया है। घरेलू देश के हीरो के लिए यह बहुत बड़ी जीत है, क्योंकि उन्होंने हाल के दिनों में कई क्लासिकल टूर्नामेंट नहीं खेले थे।

महिलाओं की प्रतियोगिता में, जू वेनजुन ने टूर्नामेंट के उद्घाटन संस्करण में खिताब जीतकर इतिहास रच दिया। उन्होंने क्लासिकल गेम में चीन की अपनी हमवतन और वर्ल्ड चैंपियनशिप चैलेंजर लेई तिंगजी को हराया।

एक अन्य गेम में, अन्ना मुज़िचुक और कोनेरू हम्पी ने अपना गेम ड्रा कराया, जिसका मतलब था कि मुज़िचुक की टूर्नामेंट जीतने की संभावनाएँ ख़त्म हो गईं। हालाँकि, मुज़िचुक आर्मगेडन में जीत हासिल करने में सफल रही और महत्वपूर्ण 1.5 अंक हासिल कर टूर्नामेंट में दूसरे स्थान पर रही।

टूर्नामेंट का आखिरी गेम युवा भारतीय प्रतिभा वैशाली आर और पिया क्रैम्लिंग के बीच था। जबकि वैशाली ने एक समय में जीत की स्थिति हासिल कर ली थी, यह क्रैम्लिंग ही थी जो एंडगेम में जीत के लिए जोर लगा रही थी, लेकिन गेम शांतिपूर्वक समाप्त हो गया। वैशाली टाईब्रेक गेम में हार गई और टूर्नामेंट में चौथे स्थान पर रही।

नॉर्वे शतरंज ने दोनों टूर्नामेंट के विजेताओं – मैग्नस कार्लसन और जू वेनजुन को उनकी अच्छी जीत पर बधाई दी । इस वर्ष, नॉर्वे शतरंज पहले से कहीं अधिक बड़ा था, जिसने बेहतरीन प्रतिस्पर्धियों को आकर्षित किया और शुरू से अंत तक उच्च-स्तरीय उत्साह प्रदान किया। नॉर्वे शतरंज महिला टूर्नामेंट का शामिल होना एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर साबित हुआ, जिसने इस खेल में इस आयोजन की वृद्धि और समावेशिता के प्रति प्रतिबद्धता को उजागर किया।

–आईएनएस

आरआर/