भूख हड़ताल के चौथे दिन जरांगे-पाटिल की हालत बिगड़ी, कहा- नहीं कराएंगे इलाज

0
8

जालना (महाराष्ट्र), 11 जून (आईएएनएस)। मराठा आरक्षण के लिए अपने पांचवें अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल आंदोलन के चौथे दिन मंगलवार को शिवबा संगठन के प्रमुख मनोज जरांगे-पाटिल की तबीयत बिगड़ गई, लेकिन उन्होंने इलाज कराने से इनकार कर दिया।

एक सहयोगी ने कहा कि एक मेडिकल टीम ने जरांगे-पाटिल की जांच की और पाया कि वह कमजोरी, लो ब्लड प्रेशर, कम वजन और दूसरी बीमारियों से पीड़ित हैं।

हालांकि, उन्होंने कोई भी दवा लेने से इनकार कर दिया है और कहा कि मराठा आरक्षण पर सरकार द्वारा मांगें माने जाने तक भूख हड़ताल जारी रहेगी।

मंगलवार को उनकी जांच करने वाली एक सरकारी अस्पताल की टीम के एक डॉक्टर ने कहा कि मराठा नेता को तुरंत इलाज की जरूरत है, लेकिन वह इलाज कराने के लिए तैयार नहीं हैं।

मीडिया से संक्षिप्त बातचीत में जरांगे-पाटिल ने कहा, “मेरा अनशन जारी रहेगा…कुछ लोग आंदोलन को कमजोर करने के लिए मराठों से बातें कर रहे हैं, लेकिन यह काम नहीं करेगा। सरकार को लंबित मांगों का तत्काल समाधान निकालना चाहिए।”

राज्य मंत्री छगन भुजबल के सोमवार को दिए गए बयान कि महायुति के लिए लोकसभा चुनाव पर 2023-2024 के मराठा आंदोलन का कोई असर नहीं पड़ा है, जरांगे-पाटिल ने कहा, “थोड़ा और इंतजार कीजिए और आपको पता चल जाएगा।”

इससे पहले, शिवबा संगठन के नेता ने चेतावनी दी थी कि अगर सरकार अपने वादों को पूरा करने में विफल रही तो वह अक्टूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए महाराष्ट्र की सभी 288 विधानसभा सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगे।

लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होने के चार दिन बाद, जरांगे-पाटिल ने 8 जून को अपने पैतृक गांव अंतरावली-सरती में भूख हड़ताल के साथ अपना नया आंदोलन शुरू किया।