पूनम पांडे की मौत के बाद, डॉक्टरों ने कहा- भारतीयों के लिए सर्वाइकल कैंसर की वैक्सीन जरूरी

0
21

नई दिल्ली, 2 फरवरी (आईएएनएस)। एक्ट्रेस और मॉडल पूनम पांडे की सर्वाइकल कैंसर से मौत हो गई। वह 32 साल की थीं। इसके बाद डॉक्टरों ने कहा है कि सर्वाइकल कैंसर की वैक्सीन भारतीयों के लिए जरूरी है।

सर्वाइकल कैंसर भारतीय महिलाओं में दूसरा सबसे आम कैंसर है, जो इस जनसांख्यिकीय समूह में होने वाले सभी कैंसर का लगभग 18 प्रतिशत है।

द लैंसेट ग्लोबल हेल्थ जर्नल में प्रकाशित एक हालिया अध्ययन के अनुसार, सर्वाइकल कैंसर के हर पांच में से एक या 21 प्रतिशत मामले भारत में होते हैं। देश में लगभग हर चार में से एक यानी 23 प्रतिशत मौत का कारण कैंसर है।

फरीदाबाद में मारेंगो एशिया हॉस्पिटल्स के सीनियर कंसल्टेंट और एचओडी- ऑन्कोलॉजी डॉ. सनी जैन ने कहा, ”सर्वाइकल कैंसर का टीका (वैक्सीन) महिलाओं को एचपीवी वायरस से प्रेरित कार्सिनोमा सर्विक्स से बचाता है और उनकी रक्षा करता है। हमें खुशी है कि सरकार कैंसर की रोकथाम की दिशा में मजबूत प्रयास कर रही है। इसमें 9-14 वर्ष की लड़कियों के लिए सर्वाइकल कैंसर टीकाकरण शामिल है।”

केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को अंतरिम बजट पेश करते हुए कहा था कि सरकार सर्वाइकल कैंसर की रोकथाम के लिए 9 से 14 साल की लड़कियों के टीकाकरण को बढ़ावा देगी।

सर्वाइकल कैंसर ह्यूमन पेपिलोमावायरस से जुड़ा है और टीके इसे रोक सकते हैं। इसलिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार, सर्वाइकल कैंसर से बचाने वाला टीका इस बीमारी के खिलाफ एक बहुत ही महत्वपूर्ण जीवन रक्षक उपाय है।