ओलंपिक में पदक के साथ लौटने की उम्मीद : प्रणय

0
15

नई दिल्ली, 25 जून (आईएएनएस)। भारत के सर्वोच्च रैंकिंग वाले पुरुष एकल शटलर एचएस प्रणय पेरिस 2024 में अपना ओलंपिक डेब्यू करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

विश्व चैंपियनशिप के कांस्य पदक विजेता का मानना ​​है कि समर्पण और कड़ी मेहनत ही किसी की कहानी को आकार देती है। साथ ही उन्होंने पदक के साथ लौटने की उम्मीद जताई, जिसके लिए मानसिक और शारीरिक दोनों तरह की तैयारियों के महत्व के बारे में बात की।

प्रणय ने जियोसिनेमा के ‘द ड्रीमर्स’ पर कहा, “पिछले तीन से चार वर्षों में, मैंने एक अलग दृष्टिकोण अपनाया है। मेरे आसपास एक सहायक टीम का निर्माण करना महत्वपूर्ण रहा है। यह परिवर्तन मेरी यात्रा के लिए महत्वपूर्ण रहा है। उम्र भले ही सिर्फ एक संख्या हो, लेकिन यह समर्पण और कड़ी मेहनत ही है जो आपके सपनों को पूरा करेगी।”

प्रणय को पता है ओलंपिक में कैसा दबाव होता है। वो एक मजबूत मानसिक दृष्टिकोण बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

प्रणय ने आगे कहा, “बड़े टूर्नामेंट हमेशा ही बहुत रोमांचक होते हैं। मैंने कभी ओलंपिक में नहीं खेला है, लेकिन मुझे कोर्ट पर एक अलग तरह का दबाव महसूस होता है। अक्सर, यह शारीरिक से ज़्यादा मानसिक लड़ाई होती है। एक मैच सब कुछ बदल सकता है। जैसे-जैसे हम ओलंपिक की तैयारी कर रहे हैं, हमारी रणनीति पहले मैच से ही जल्दी से जल्दी उसके अनुकूल ढालने की होगी, क्योंकि हर अंक महत्वपूर्ण है।”

प्रणय ने कहा, “2023 वाकई खास था। एक महीने के भीतर विश्व चैंपियनशिप और एशियाई खेलों में दो बड़े पदक जीतना बहुत अच्छा रहा। एशियाई खेलों में पुरुष एकल वर्ग में 41 साल के अंतराल को खत्म करना विशेष रूप से यादगार है।”

31 वर्षीय खिलाड़ी ने इस बात पर भी जोर दिया कि परिणाम पर ध्यान केंद्रित करने के बजाय प्रक्रिया का आनंद लेना महत्वपूर्ण है। ओलंपिक पदक जीतने के जुनून के साथ-साथ यात्रा का भी आनंद लेना महत्वपूर्ण है।