वायुसेना के काफिले पर हमला : जम्मू-कश्मीर के पुंछ में आतंकवादियों को तलाशने के अभियान के दौरान कई लोग हिरासत में लिए गए (लीड-1)

0
9

जम्मू, 5 मई (आईएएनएस)। वायुसेना के दो वाहनों पर आतंकवादी हमले में एक कर्मी की मौत के बाद सुरक्षा बलों ने रविवार को जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान चलाया और इस दौरान कई लोगों को हिरासत में लिया गया।

पुंछ की सुरनकोट तहसील के बकराबल (सनाई) इलाके में हुए आतंकी हमले में वायुसेना के कॉर्पोरल निक्की पहाड़े शहीद हो गए और 4 अन्य वायु योद्धा घायल हो गए।

चार घायल वायु योद्धाओं को हवाई मार्ग से उधमपुर के उत्तरी कमान अस्पताल ले जाया गया। डॉक्टरों के मुताबिक, एक की हालत गंभीर बताई जा रही है, जबकि अन्य तीन की हालत स्थिर है।

हमले के मद्देनजर स्थानीय पुलिस, सेना और अर्धसैनिक बलों सहित सुरक्षा बलों ने आतंकवादियों का पता लगाने के लिए रविवार सुबह पुंछ के कई इलाकों में बड़े पैमाने पर तलाशी अभियान शुरू किया। सेना ने एक हेलीकॉप्टर का उपयोग करके हवाई निगरानी भी की और पैरा कमांडो को भी तलाशी अभियान में लगाया गया।

एडीजीपी, जम्मू, आनंद जैन और सेना और खुफिया एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारियों ने सुरनकोट क्षेत्र में घात स्थल का दौरा किया।

शनिवार का हमला 21 दिसंबर, 2023 के बाद पुंछ में पहला हमला था, जब जिले के बफलियाज के डेरा की गली इलाके में एक आतंकवादी हमले में सेना के 4 जवान मारे गए थे।

खुफिया एजेंसियों का मानना है कि यह हमला लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी अबू हमजा के नेतृत्व में आतंकवादियों के एक समूह ने किया था।

पुलिस के मुताबिक, अबू हमजा 22 अप्रैल को राजौरी जिले के थानामंडी इलाके के कुंडा टॉप गांव में 40 वर्षीय सरकारी कर्मचारी मोहम्मद रज्‍जाक की हत्या के लिए भी जिम्मेदार है।

रज्‍जाक समाज कल्याण विभाग में काम करते थे, जबकि उनके भाई मोहम्मद ताहिर चौधरी प्रादेशिक सेना में कार्यरत हैं। पुलिस ने बताया कि आतंकवादी सैनिक को मारने आए थे, लेकिन जब वह उनके चंगुल से छूट गया तो उन्होंने उसके भाई को मार डाला।

पुलिस ने पुंछ और राजौरी जिलों के घने जंगली इलाके में सक्रिय इस विदेशी आतंकवादी का पता लगाने वाले व्यक्ति को 10 लाख रुपये का नकद इनाम देने की घोषणा की है।

अधिकारियों ने कहा कि आतंकवादियों ने एके असॉल्ट राइफलों के अलावा अमेरिका निर्मित एम4 कार्बाइन और स्टील की गोलियों का भी इस्तेमाल किया।