‘वायु शक्ति अभ्यास’ में आईएएफ का दिखेगा दम; सुखोई, जगुआर, चिनूक और अपाचे लेंगे भाग

0
18

नई दिल्ली, 2 फरवरी (आईएएनएस)। भारतीय वायुसेना 17 फरवरी को जैसलमेर के पास पोखरण एयर टू ग्राउंड रेंज में ‘वायु शक्ति-24 अभ्यास’ का आयोजन करने वाली है। इस साल अभ्यास में स्वदेशी विमान तेजस, प्रचंड और ध्रुव सहित 121 विमान अपना दमखम दिखाएंगे।

वायुसेना के एक अधिकारी ने बताया कि अन्य भाग लेने वाले विमानों में राफेल, मिराज-2000, सुखोई-30 एमकेआई, जगुआर, हॉक, सी-130जे, चिनूक, अपाचे और एमआई-17 शामिल हैं।

वायुसेना ने बताया कि सतह से हवा में मार करने वाली स्वदेशी हथियार प्रणाली आकाश और समर घुसपैठ करने वाले विमान को ट्रैक करने और मार गिराने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन करेंगे।

बता दें कि ‘वायु शक्ति अभ्यास’ का अंतिम संस्करण 16 फरवरी 2019 को आयोजित किया गया था। वायु सेना ने कहा कि हमेशा की तरह, पूर्व वायु शक्ति आईएमएफ की आक्रामक और रक्षात्मक क्षमताओं का दिन और रात में बेहतरीन प्रदर्शन करेगी। इस अभ्यास में भारतीय सेना के साथ-साथ संयुक्त अभियानों का भी प्रदर्शन किया जाएगा।

वायुसेना के मुताबिक, ‘एक्सरसाइज वायु शक्ति’ कई हवाई अड्डों से संचालन करते हुए लंबी दूरी, सटीक क्षमता के साथ-साथ पारंपरिक हथियारों को सटीक और समय पर वितरित करने की वायुसेना की क्षमता का प्रदर्शन होगा।

आईएएफ ने कहा, विशेष अभियान में गरुड़ और भारतीय सेना के तत्व भी शामिल होंगे और प्रदर्शन करेंगे।