ज्यादा टेस्ट नहीं खेलने के कारण प्रारूपों के बीच स्विच करना मुश्किल: शैली निश्चके

0
29

सिडनी, 11 फरवरी (आईएएनएस)। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 15 फरवरी को पर्थ के वाका ग्राउंड में होने वाले ऐतिहासिक एकमात्र टेस्ट से पहले ऑस्ट्रेलिया की मुख्य कोच शेली निश्चके ने स्वीकार किया कि कई प्रारूपों में नहीं खेलने के कारण प्रारूपों के बीच एकदम से स्विच करना मुश्किल हो जाता है।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया बहु-प्रारूप श्रृंखला में 8-4 की बढ़त के साथ चार दिवसीय एक टेस्ट मैच में खेलने मैदान पर उतरेगा।

इसके अलावा, उन्हें हाल के दिनों में टेस्ट खेलने का फायदा मिला है। 2023 में क्रमशः नॉटिंघम और मुंबई में इंग्लैंड और भारत के खिलाफ एक-एक टेस्ट खेला।

शैली ने कहा, “मुझे वास्तव में बहु-प्रारूप श्रृंखला पसंद है। मुझे लगता है कि वे वास्तव में अच्छा काम करते हैं। वे तैयारी में कुछ चुनौतियां पेश करते हैं, लेकिन यह इसका हिस्सा है, दोनों टीमें इससे गुजरती हैं। यह वास्तव में कठिन है क्योंकि हम बहुत अधिक टेस्ट नहीं खेलते हैं।

क्रिकेट.कॉम.एयू ने शैली के हवाले से कहा, “जब हम इंग्लैंड गए तो हमने लाल गेंद के प्रारूप पर ध्यान केंद्रित करने में काफी समय बिताया और वहां टेस्ट मैच में वास्तव में अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन फिर सफेद गेंद में हमारा प्रदर्शन ज्यादा अच्छा नहीं रहा। मुझे लगता है कि हम हर बार कुछ नया सीख रहे हैं।”

“मुझे लगता है कि हर बार जब हम टेस्ट खेलते हैं तो हम सीख रहे हैं, और फ्लिक करने में सक्षम होना सीख रहे हैं। उम्मीद है कि दूसरे प्रारूप में ऐसा करना आसान होता जा रहा है। लेकिन मुझे लगता है कि जब आप तीन प्रारूपों में लगभग एक ही टीम के साथ खेल रहे हों तो अभी भी एक चुनौती है।”

दक्षिण अफ्रीका के लिए चुनौती थोड़ी कठिन है क्योंकि उन्होंने आखिरी बार 2022 में इंग्लैंड के खिलाफ टांटन में टेस्ट मैच खेला था। हालांकि कप्तान लॉरा वोल्वार्ट ने कहा कि टीम ने ऑस्ट्रेलिया रवाना होने से पहले एक प्रशिक्षण शिविर में लाल गेंद का गहन अभ्यास किया, लेकिन उन्होंने स्वीकार किया कि उन्हें पर्थ की परिस्थितियों के अनुसार जल्दी से ढलना होगा।