न्यूयॉर्क की चुनौतीपूर्ण पिच से निपटने के तरीके खोजने होंगे: विक्रम राठौर

0
12

न्यूयॉर्क, 6 जून (आईएएनएस)। टी20 विश्व कप में लगातार दूसरी बार न्यूयॉर्क में लो स्करिंग मुकाबला खेला गया। इस पिच पर दक्षिण अफ्रीका द्वारा श्रीलंका को 77 रनों पर आउट करने के बाद, भारत के गेंदबाजों ने आयरलैंड को 96 रनों पर समेट दिया।

न्यूयॉर्क की ड्रॉप इन पिच एक बार फिर चर्चा का विषय बन गई। यहां गेंद में अधिक बाउंस, वेरिएशन और मोमेंट है। बेशक, भारत ने आयरलैंड के खिलाफ मुकाबला जीत लिया हो लेकिन यहां बल्लेबाजी करना भारतीय बल्लेबाजों के लिए भी लोहे के चने चबाना जैसा था। दिग्गज बल्लेबाज विराट कोहली और सूर्यकुमार यादव भी इस पिच पर फ्लॉप रहे।

हालांकि, रोहित शर्मा और ऋषभ पंत ने यहां रन जरूर बनाए लेकिन हिटमैन को भी शुरुआत में काफी संघर्ष करना पड़ा।

भारत के बल्लेबाजी कोच विक्रम राठौर ने स्वीकार किया कि ग्रुप ए के पहले मैच के लिए न्यूयॉर्क की पिच बल्लेबाजों के लिए चुनौतीपूर्ण थी, लेकिन उनका मानना ​​है कि टीम इन कठिन परिस्थितियों से निपटने के लिए तैयार है। साथ ही कुछ ऐसी चुनौतियां भी है, जिन्हें 9 जून को इसी मैदान पर पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले अगले मैच से पहले सुलझाना होगा।

भारतीय टीम के बल्लेबाजी कोच ने कहा, “जहां तक ​​बल्लेबाजी का सवाल है, यह एक चुनौतीपूर्ण विकेट है लेकिन हमें यहीं खेलना है इसलिए हमें इससे निपटने के तरीके खोजने होंगे। जैसा कि मैंने पहले कहा, हमारे पास बल्लेबाजी समूह में पर्याप्त कौशल और अनुभव है। हमारे पास कई ऐसे बल्लेबाज हैं जो किसी भी तरह की सतह पर अच्छी बल्लेबाजी कर सकते हैं। मुझे लगता है कि यह कई सालों से हमारी ताकत रही है।

“मुझे लगता है कि हम अलग-अलग परिस्थितियों के हिसाब से खुद को बहुत अच्छी तरह ढाल सकते हैं, और मुझे लगता है कि इस सतह पर आपको वास्तव में अच्छी तरह से ढलने और इसका सामना करने की ज़रूरत है। इसके बारे में बहुत ज़्यादा चिंता करने की ज़रूरत नहीं है।”

मैच खत्म होने के बाद रोहित ने कहा, “मुझे नहीं पता कि पाकिस्तान के खिलाफ क्या उम्मीद करनी चाहिए। हम परिस्थितियों के हिसाब से तैयारी करेंगे। यह ऐसा मैच होगा जिसमें पूरी टीम एक साथ आएगी और अपना योगदान देगी। उम्मीद है कि हम फिर से इसी तरह का प्रदर्शन कर पाएंगे।

“नया मैदान, नया वेन्यू और हम देखना चाहते थे कि यहां खेलकर कैसा लगता है। मुझे लगता है कि पिच अभी जमी नहीं है और तेज गेंदबाजों को काफी मदद दे रही है।”