रिपब्लिकन ताजपोशी की ओर ट्रम्प की राह में कोई रुकावट नहीं

0
28

न्यूयॉर्क, 21 जनवरी (आईएएनएस)। डोनाल्ड ट्रंप यकीनन दुनिया के सबसे शक्तिशाली पद के लिए रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार के रूप में आगे बढ़ रहे हैं, जिसे नामांकन की बजाय राज्याभिषेक ही कहा जा सकता है।

रियलक्लीयर पॉलिटिक्स (आरसीपी) के सर्वेक्षणों के औसत के अनुसार, ट्रंप को उनकी पार्टी के भीतर कुल समर्थन 66.1 प्रतिशत है, जबकि दक्षिण कैरोलिना की पूर्व गवर्नर और पूर्व अमेरिकी राजदूत निक्की हेली को 11.5 प्रतिशत का समर्थन प्राप्त है। इसके बाद फ्लोरिडा के गवर्नर रॉन डिसेंटिस को 10.5 प्रतिशत समर्थन प्राप्त है।

राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन का उम्मीदवार चुनने के लिए चल रहे आंतरिक चुनावों के पूर्वावलोकन में उन्होंने आयोवा कॉकस में अपने विरोधियों को कुचल दिया। पिछले सप्ताह उन्हें डिसेंटिस के 21.2 प्रतिशत और हेली के 19.1 प्रतिशत के मुकाबले 51 प्रतिशत वोट मिले। सर्वेक्षणों की मानें तो वह मंगलवार को न्यू हैम्पशायर में इसे दोहराने वाले हैं।

यह उन्हें जुलाई के मध्य में राष्ट्रपति जो बाइडेन के साथ दोबारा मुकाबले के लिए पार्टी के उम्मीदवार के रूप में उनके राज्याभिषेक की राह पर ले जायेगा, जिन्होंने 2020 में उन्हें हराया था – एक हार जिसे ट्रम्प ने स्वीकार करने से इनकार कर दिया।

हालाँकि, अंतिम निर्णय लेने में सुप्रीम कोर्ट के पास भी रिपब्लिकन पार्टी जितनी ही शक्ति होगी क्योंकि अदालत को यह तय करना होगा कि क्या ट्रम्प, जिन्होंने अपनी 2020 की हार को स्वीकार करने से इनकार कर दिया है, को चुनाव लड़ने से रोका जा सकता है। दो प्रांतों के अधिकारियों अपने मतपत्रों से पूर्व राष्ट्रपति को बाहर कर दिया है। उनका आरोप है कि उन्होंने एक विद्रोह में भाग लिया था जो उन्हें संविधान के तहत पद संभालने से रोकता है।

विद्रोह का आरोप 6 जनवरी 2021 को हुए दंगे से उत्पन्न हुआ, जब एक रैली में उनके सैकड़ों समर्थकों ने संसद पर हमला कर दिया और इमारत में घुसकर सांसदों और तत्कालीन उपराष्ट्रपति माइक पेंस को बाइडेन के चुनाव को प्रमाणित करने से रोकने की धमकी दी।

सुप्रीम कोर्ट से इस पर फैसला देने को कहा गया है।

इसके अलावा, उन पर चार अलग-अलग अदालतों के समक्ष मामलों में लगभग 90 आपराधिक आरोप हैं। एक भी मामले में दोषी ठहराये जाने पर उन्हें जेल भी जाना पड़ सकता है। लेकिन विडंबना यह है कि उन्हें चुनाव में भाग लेने से नहीं रोका जा सकता है।

इन मामलों ने, जिनमें जॉर्जिया में चुनाव को विफल करने की कोशिश करना और अनुचित तरीके से टॉप सिक्रेट सरकारी दस्तावेजों को लेकर राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालना शामिल है, उनकी पार्टी के बहुमत के लिए उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान नहीं पहुंचाया है, न ही महिलाओं के साथ उनके आचरण और धोखाधड़ी से जुड़े कई नागरिक मामलों ने।

कुछ सीमांत उम्मीदवारों को छोड़कर, बाइडेन अपनी पार्टी में लगभग निर्विरोध हैं। लेकिन ट्रम्प, जिन्होंने गंभीर चुनौतियों का सामना किया है, ऐसा व्यवहार कर रहे हैं जैसे कि यह कोई बड़ी बात नहीं है कि कोई उनका विरोध करे।

चुनाव में लगभग 11 महीने शेष रहने के बाद आरसीपी द्वारा किए गए सर्वेक्षणों के अनुसार, हकदार गेरोंटोक्रेट्स के टकराव में 77 वर्षीय ट्रम्प 81 वर्षीय बाइडेन से दो प्रतिशत आगे हैं।

हालांकि उनकी पार्टी के भीतर उनकी चुनाव योग्यता को लेकर सुगबुगाहट चल रही है, लेकिन ऐसा कोई विद्रोह नहीं हुआ है, जिससे उनके सामने ट्रंप के मुकाबले कम चुनौती है।

बाइडेन की उम्र एक कारक बन रही है, उनकी जुबान ज्यादा फिसलने लगी है और उनका आचरण प्रभावित हो रहा है।

आरसीपी औसत के अनुसार उन पर 56.4 प्रतिशत की प्रतिकूलता रेटिंग का बोझ है, और उनके काम की रेटिंग लगभग इतनी ही है।

जब डेमोक्रेटिक पार्टी द्वारा संचालित शहरों और प्रांतों में बाइडेन की लहर चल रही थी तभी उनकी स्थिरता और वित्त को खतरा हो रहा है, जिससे उनकी अपनी पार्टी के निर्वाचित अधिकारियों के बीच विरोध पैदा हो रहा है।

विदेश नीति के मोर्चे पर, जैसे ही देश अफगानिस्तान से वापसी के घातक संकट से वह उबर रहे थे, बाइडेन को गाजा संघर्ष में इज़रायल को बिना शर्त समर्थन के लिए वामपंथ से चुनौतियों का सामना करना पड़ा और यूक्रेन को बड़े पैमाने पर सहायता देने के लिए दक्षिणपंथ से चुनौती मिली।

दूसरी ओर, बेरोजगारी दर का रिकॉर्ड निचला स्तर, तेजी से बढ़ते शेयर बाजार, कुछ गंभीर अपराधों में गिरावट, पुन: औद्योगीकरण के प्रयास और चीन के खिलाफ रुख के बारे में अच्छी खबरें मतदाताओं की धारणाओं तक नहीं पहुंची हैं।

ट्रम्प इसका चुनावी लाभ लेने की कोशिश करेंगे।

बाइडेन और डेमोक्रेट्स के हमले का मुख्य मुद्दा यह रहेगा कि ट्रम्प का चुनाव लोकतंत्र को खतरे में डाल देगा।

एक दिन के लिए तानाशाह बनने के बारे में ट्रम्प की बातें उनके लिए गोला-बारूद हो सकती हैं, लेकिन अभी तक मतदाताओं को यह उतना आसन्न खतरा नहीं लगता है जितना कि आर्थिक और आव्रजन मुद्दों के बारे में उनकी धारणाएँ।

–आईएएनएस

एकेजे/