शून्य भुखमरी की ओर : पीएम मोदी ने संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी मिशन को समर्थन दिया

0
9

नई दिल्ली, 1 अप्रैल (आईएएनएस)। संयुक्त राष्ट्र में भारत का स्थायी मिशन न्यूयॉर्क स्थित अपने मुख्यालय में मंगलवार को सतत विकास लक्ष्य-2 के अनुरूप शून्य भुखमरी का लक्ष्‍य हासिल करने की दिशा में भारत के महत्वपूर्ण योगदान पर एक कार्यक्रम की मेजबानी करेगा।

भारत का स्थायी मिशन औपचारिक रूप से संयुक्त राष्ट्र में भारत का प्रतिनिधित्‍व करता है।

कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा साझा किया गया एक संदेश पढ़ा जाएगा। इसमें कई प्रतिष्ठित अतिथियों के शामिल होने की उम्मीद है।

इसमें राजदूत रुचिरा कंबोज की शुरुआती टिप्पणियां और नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी का मुख्य भाषण होगा। इन्फोसिस के संस्थापक और मानद अध्यक्ष एन. आर. नारायण मूर्ति और अक्षय पात्र फाउंडेशन के अध्यक्ष मधु पंडिता दासा भी मौजूद रहेंगे।

‘खाद्य सुरक्षा में उपलब्धियां : सतत विकास लक्ष्यों की ओर भारत के कदम’ शीर्षक के तहत होने वाले इस कार्यक्रम में लक्ष्य हासिल करने की दिशा में भारत सरकार और अक्षय पात्र फाउंडेशन द्वारा की गई पहल पर विचार-विमर्श किया जाएगा। यह पिछले 23 वर्षों में भारत और विदेशों में भुखमरी से निपटने की दिशा में अक्षय पात्र के समर्पण और उद्धार को भी मान्यता देता है।

इस कार्यक्रम में अक्षय पात्र फाउंडेशन द्वारा चार अरब भोजन परोसेे जाने की उल्लेखनीय उपलब्धि का जश्‍न भी मनाया जाएगा।

अक्षय पात्र फाउंडेशन की स्थापना 2000 में हुई थी। भूखों (जो भी मंदिर में आता है) को खाना खिलाने की इस्कॉन मंदिर की परंपरा से एक कदम आगे बढ़ते हुए, यह सब बेंगलुरु के पांच स्कूलों के 1,500 बच्चों को खाना खिलाने के साथ शुरू हुआ था।

यह पहल दुनिया का सबसे बड़ा (गैर-लाभकारी संचालित) मध्याह्न भोजन कार्यक्रम बन गया, जो भारत के 16 राज्यों और दो केंद्र शासित प्रदेशों के 24,082 स्कूलों के 20 लाख से अधिक बच्चों को पौष्टिक भोजन प्रदान करता है।

इस्कॉन, बैंगलोर और अक्षय पात्र फाउंडेशन की कार्यकारी निदेशक (रणनीति और अंतर्राष्ट्रीय संबंध), नवीन नीरदा दासा ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा कि वे इस उद्देश्य में शामिल होने के लिए देशों और संस्थाओं को एक साथ लाने का इरादा रखते हैं।

उन्होंने कहा, “थिंक-टैंक नहीं, हम ‘डू-टैंक’ हैं।”

उन्होंने संकट और आपदा के समय भी समग्र, कार्यात्मक रसोई के उद्देश्य को पूरा करने के लिए केंद्रीकृत रसोई स्थापित करने की सिफारिश की और कोविड-19 महामारी के दौरान उनकी सेवाओं का उदाहरण दिया, जब उन्होंने अपनी क्षमता को 110 फीसदी तक बढ़ाया और भूखों को भोजन देना जारी रखा।

कार्यक्रम रात 8.30 आईएसटी (11.00 पूर्वाह्न ईएसटी) बजे शुरू होगा।