अकाउंटेंट के रूप में काम करने वाले विजय सेतुपति हमेशा से ही बनना चाहते थे एक्‍टर

0
20

मुंबई, 30 जून (आईएएनएस)। हाल में रिलीज हुई फिल्म ‘महाराजा’ के लिए तारीफ बटोरने वाले तमिल स्टार विजय सेतुपति ने कहा कि वह एक अकाउंटेंट थे, मगर शुरू से ही एक अभिनेता बनने की चाहत रखते थे।

‘वैरायटी’ की रिपोर्ट के अनुसार एक अकाउंटेंट के रूप में शुरुआत करने वाले विजय सेतुपति एक अभिनेता बनना चाहते थे। इसी सपने को पूरा करने के लिए वह शुरुआत में एक थिएटर कंपनी में शामिल हो गए, जहां केवल अकाउंटेंट की ही जगह थी।

उन्होंने कहा, “मैंने सोचा कि अगर मैं अकाउंटेंट के तौर पर काम करूं तो मैं हर दिन कलाकारों को देख सकता हूं। मैं उनके साथ रह सकता हूं। मैं उनसे बात कर सकता हूं। मैं समझ सकता हूं कि अभिनय क्या है। यह सब कुछ मेरा सबक था। यहां तक ​​कि लंच में उनके साथ होना मेरे लिए एक क्‍लास थी। अभिनेताओं के साथ रहना हमेशा कुछ सिखाता था।”

अभिनेता ने अपने बच्चों के साथ अपने संबंधों के बारे में भी बातें की।

उन्होंने कहा, “मैं एक बेटा और एक बेटी का पिता हूं। मैं अपनी बेटी से बहुत प्यार करता हूं। अगर वह मुझ पर हावी होती है, तो मुझे हमेशा अच्छा लगता है। मैं उसे ‘अम्मा’ (मां) और अपने बेटे को ‘अप्पा’ (पिता) कहता हूं।”

अभिनेता ने अपने बच्चों के साथ खुलकर बात करने पर जोर दिया। एक्‍टर ने कहा कि उन्‍होंने हमेशा बच्‍चों से अपने काम के बारे में भी बातें की है।

उन्होंने ‘वैरायटी’ से कहा, “जब भी मैं किसी फिल्‍म की शूटिंग के लिए जाता हूं, और कोई दिलचस्प सीन होता है तो मैं अपने बच्‍चों के साथ हमेशा शेयर करता हूं।”

‘वैरायटी’ के अनुसार, सेतुपति कहते हैं कि उन्हें अपने विषय के चुनाव के लिए जि‍म्मेदारी का अहसास है और वे अपने बच्चों के सुझावों को गंभीरता से लेते हैं।

एक्‍टर ने आगे कहा, “मैं खुद को कभी पिता के रूप में पेश नहीं करता, बल्कि मैं कभी-कभी खुद बच्चा बन जाता हूं।”

-आईएएनएस

एमकेएस/एबीएम