जी के शेयर का मूल्यांकन कम होने की संभावना : सीएलएसए

0
30

नई दिल्ली, 22 जनवरी (आईएएनएस)। आवश्यक नियामक और शेयरधारक अनुमोदन के बाद जी एंटरटेनमेंट (जी) का सोनी के साथ प्रस्तावित विलय रद्द कर दिया गया है।

विदेशी ब्रोकरेज सीएलएसए ने एक रिपोर्ट में कहा कि विलय रद्द होने के साथ जी का मूल्यांकन विलय की घोषणा से पहले देखे गए 12x पीई स्तर (अगस्त-21) तक घट जाएगा।

पिछले दिनों प्रमोटर शेयर गिरवी संकट (2019 में) और व्यापार नकदी रूपांतरण में गिरावट के दौरान स्टॉक की रेटिंग कम हो गई थी।

सीएलएसए ने कहा, “हम 12x 1 वर्ष एफडब्ल्यूडी पीई के आधार पर 198 रुपये (300 रुपये थे) के संशोधित टीपी पर खरीद से बेचने तक डी/जी जी करते हैं। इसके अलावा, रिलायंस और डिज्नी स्टार के कथित विलय के साथ प्रतिस्पर्धा तेज होनी चाहिए।”

नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) सहित आवश्यक विनियामक अनुमोदन और जी के 99 प्रतिशत शेयरधारकों की मंजूरी के बाद सोनी के साथ जी के प्रस्तावित विलय को रद्द कर दिया गया है।

जी को विलय खत्‍म करने के लिए सोनी से संचार मिला है और वह जी द्वारा कथित उल्लंघनों (चित्र 2 में विवरण) पर 90 मिलियन डॉलर की समाप्ति शुल्क की मांग कर रहा है और यहां तक कि जी के खिलाफ मध्यस्थता का आह्वान भी कर रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि जी सोनी के उल्लंघन के दावों से इनकार कर रहा है और जी के सीईओ, पुनीत गोयनका विलय के हित में पद छोड़ने के लिए सहमत थे।

“जी के स्टॉक मूल्यांकन में गिरावट की संभावना है। जी-सोनी विलय खत्‍म होने के साथ हमारा मानना ​​है कि जी का पीई 12 गुना के स्तर पर वापस आ जाएगा, जैसा कि सोनी विलय की घोषणा (21 अगस्त) से पहले देखा गया था।”

सीएलएसए ने कहा, “यह कोविड-19 की दूसरी लहर का भी समय था, जबकि ज़ी के स्टॉक पीई ने प्रमोटर शेयर गिरवी संकट (2019 में) और व्यापार नकदी रूपांतरण में गिरावट के दौरान भी डी-रेटिंग की थी।”

सीएलएसए ने कहा, जी का कॉरपोरेट गवर्नेंस फोकस में रहा है, खासकर 2019 के अभूतपूर्व प्रमोटर शेयर गिरवी संकट के बाद से, जिसमें ज़ी प्रमोटर्स (एस्सेल ग्रुप) ने जी में निवेशकों को कई हिस्सेदारी की बिक्री के साथ ऋण चुकाया और प्रमोटर की शेयरधारिता 42 प्रतिशत से घटकर 4 प्रतिशत हो गई।

जी-सोनी विलय से जी की कम प्रमोटर स्वामित्व चुनौती का समाधान हो गया होगा, क्योंकि विलय के बाद सोनी के पास 51 प्रतिशत का स्वामित्व होगा।

–आईएएनएस

एसजीके/