बिहार के सीतामढ़ी में माता सीता का भव्य मंदिर बनेगा : अमित शाह

0
27

सीतामढ़ी, 16 मई (आईएएनएस)। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने गुरुवार को सीतामढ़ी में जदयू के प्रत्याशी देवेश चंद्र ठाकुर के समर्थन में आयोजित एक चुनावी रैली को संबोधित किया।

इस दौरान उन्होंने कहा कि सीतामढ़ी के पुनौरा धाम में ऐसा धाम बनेगा, जिसे दुनिया के लोग देखने आएंगे। यहां भव्य मंदिर सिर्फ और सिर्फ नरेंद्र मोदी और भाजपा ही बनवा सकती है। सीतामढ़ी को राम सर्किट से जोड़ा जाएगा।

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस और राजद वाले 70 साल तक धारा-370 हटाने का विरोध करते रहे। लालू यादव और राहुल गांधी कहते थे कि 370 मत हटाओ, खून की नदियां बह जाएगी। लेकिन, पीएम मोदी ने आते ही 370 हटाया। कांग्रेस और फारुख अब्दुल्ला पाकिस्तान के परणामु बम से डराते हैं। लेकिन, पीओके भारत का था, है और हमेशा रहेगा। इसे हम पाकिस्तान से लेकर रहेंगे।

उन्होंने कहा कि राम मंदिर के कार्यक्रम में इंडी गठबंधन वालों को बुलाया गया था, लेकिन कोई नहीं गया। ये अपने वोट बैंक से डरते हैं। हम उस वोट बैंक से नहीं डरते हैं। समय आ गया है सीतामढ़ी में माता सीता का भव्य मंदिर बनेगा। कांग्रेस और राजद के लोगों ने कई साल तक राम मंदिर को लटकाकर रखा। जब आपने मोदी जी को दूसरी बार प्रधानमंत्री बनाया तब केस भी जीता, मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा की और भव्य मंदिर भी बना।

कांग्रेस नेता राहुल गांधी को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि वह तो कोरोना वैक्सीन पर सवाल उठाते थे। रात में चुपके से जाकर वैक्सीन लगवा ली। आज लालू यादव सत्ता की राजनीति के लिए, अपने बेटे को मुख्यमंत्री बनाने के लिए जिस कांग्रेस पार्टी ने पिछड़ों और अति पिछड़ों का विरोध करने में पूरा जीवन निकाला, उस कांग्रेस पार्टी की गोद में जाकर बैठ गए हैं।

उन्होंने कांग्रेस को पिछड़ा विरोधी बताते हुए कहा कि मंडल कमीशन की रिपोर्ट पर जब चर्चा हो रही थी तो राजीव गांधी ने ढाई घंटे तक उसका विरोध किया। महिलाओं को आरक्षण देने का विरोध भी कांग्रेसी कर रहे थे। मोदी जी आए तो पिछड़ा वर्ग आयोग बनाया। पिछड़ा वर्ग को संवैधानिक मान्यता दी।

उन्होंने सवालिया लहजे में पूछा कि लालू जी आप सालों से पिछड़ा वर्ग की राजनीति कर रहे हो, लेकिन, ऐसी क्या मजबूरी है जो कांग्रेस की गोद में जाकर बैठ गए। उन्होंने कहा कि पीएम मोदी ने पिछड़ों और गरीबों के नेता कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न दिया और उनके राह पर चल भी रहे हैं।