पीएम मोदी की 33 साल पुरानी कन्याकुमारी स्थित ‘विवेकानंद रॉक मेमोरियल’ की तस्वीर वायरल

0
12

नई दिल्ली, 30 मई (आईएएनएस)। 2024 लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान 1 जून को होना है। इससे पहले गुरुवार शाम चुनाव प्रचार अभियान के समापन के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कन्याकुमारी पहुंचेंगे। कार्यक्रम के अनुसार वहां पीएम मोदी विवेकानंद रॉक मेमोरियल जाएंगे। वह यहां 30 मई की शाम से 1 जून की शाम तक ध्यान मंडपम में ध्यान करेंगे।

इसको लेकर राजनीति तेज हो गई है।

इस सब के बीच पीएम मोदी की पुरानी फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। यह फोटो 11 दिसंबर 1991 की है जब भारतीय जनता पार्टी ने तमिलनाडु के कन्याकुमारी से ‘एकता यात्रा’ की शुरुआत की थी। मोदी आकाईव एक्स हैंडल पर यह तस्वीर शेयर की गई है। इस एकता यात्रा में नरेंद्र मोदी के साथ भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष मुरली मनोहर जोशी भी थे।

सोशल मीडिया पर इस तस्वीर ने तहलका मचा दिया है। इस तस्वीर को शेयर करते हुए मोदी आकाईव एक्स हैंडल पर लिखा गया है कि 33 साल पहले, विशाल राष्ट्रव्यापी एकता यात्रा कन्याकुमारी के प्रतिष्ठित विवेकानन्द रॉक मेमोरियल से शुरू हुई थी, जो कश्मीर तक फैली थी।

नरेंद्र मोदी, डॉ. मुरली मनोहर जोशी सहित सभी ‘एकता यात्री’ ने यहां से स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा की परिक्रमा कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित कर यह यात्रा शुरू की थी।

दिसंबर 1991 में कन्याकुमारी से जब ‘एकता यात्रा’ की शुरुआत की गई थी, उस वक्त नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी के एक सामान्य कार्यकर्ता थे। एकता यात्रा के जरिए भारत को एकजुट करने के लिए वह तमिलनाडु और अन्य राज्यों की प्रतीकात्मक रूप से मिट्टी लेकर आए थे।

उनकी यह ऐतिहासिक यात्रा 26 जनवरी 1992 को कश्मीर में तिरंगा फहराने के साथ खत्म हुई थी। यह यात्रा 45 दिनों में 14 राज्यों से होकर गुजरी थी।

इसी यात्रा के अंतिम पड़ाव में नरेंद्र मोदी ने कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा फहराया था। उस वक्त उन्होंने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने का संकल्प लिया था।

अब लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के चुनाव अभियान की समाप्ति के साथ पीएम मोदी की कन्याकुमारी यात्रा और पीएम मोदी का विवेकानंद रॉक मेमोरियल के ध्यान मंडपम में ध्यान करने के कार्यक्रम के बीच इस 33 साल पुरानी तस्वीर को सोशल मीडिया पर आप वायरल होते देख सकते हैं।

हालांकि पीएम मोदी की इस यात्रा के कार्यक्रम के बारे में जानकारी मिलते ही कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दल ने इस पर सियासत तेज कर दी है। कांग्रेस तो इसको लेकर चुनाव आयोग का भी दरवाजा खटखटा चुकी है।