एग्जिट पोल में एनडीए की प्रचंड जीत का अनुमान, भाजपा ने 400 पार का किया दावा

0
10

नई दिल्ली, 1 जून (आईएएनएस)। लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के तहत शनिवार को 57 लोकसभा सीटों पर मतदान समाप्त होने के साथ ही लोकतंत्र के महापर्व में मतदान की प्रक्रिया पूरी हो गई। अब सभी को 4 जून का इंतजार है, उस दिन नतीजे आएंगे। इससे पहले शनिवार को आए तमाम एग्जिट पोल ने भाजपा और एनडीए गठबंधन के खेमे में खुशी की लहर दौड़ा दी है। लगभग सभी एग्जिट पोल लोकसभा चुनाव में भाजपा और एनडीए की प्रचंड जीत दिखा रहे हैं। एग्जिट पोल के आंकड़े से उत्साहित भाजपा अब दावा कर रही है कि पार्टी इस बार दक्षिण भारत में सबसे बड़ी पार्टी बनने जा रही है और साथ ही एनडीए गठबंधन देशभर में 400 सीटों का आंकड़ा भी पार करने जा रहा है।

रिपब्लिक भारत मैट्राइज ने अपने एग्जिट पोल में एनडीए गठबंधन को 353 से 368 सीटें मिलने का दावा किया है। वहीं इंडिया न्यूज डी डायनामिक्स एनडीए गठबंधन को 371 से ज्यादा सीटें दे रहा है। रिपब्लिक टीवी पी मार्क ने अपने एग्जिट पोल में एनडीए गठबंधन को 359 सीटें मिलने का दावा किया है। टाइम्स नाउ की मानें तो एनडीए गठबंधन के उम्मीदवार 358 सीटों पर जीत हासिल कर सकते हैं।

न्यूज़-24 टुडेज चाणक्य ने तो अपने एग्जिट पोल में एनडीए गठबंधन का आंकड़ा 400 पार जाने की बात कह दी है। वहीं एबीपी – सी वोटर्स सहित कई अन्य टीवी चैनलों और सर्वे एजेंसियों ने भी भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए गठबंधन की बड़ी जीत का दावा किया है।

एग्जिट पोल के आंकड़ों से उत्साहित केंद्रीय मंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता हरदीप सिंह पुरी ने दावा किया है कि इस बार भाजपा दक्षिण भारत में सिंगल लार्जेस्ट पार्टी बनने जा रही है। कर्नाटक और केरल सहित दक्षिण भारत के राज्यों में भाजपा का मत प्रतिशत भी बढ़ने जा रहा है।

पुरी ने मीडिया से बात करते हुए दावा किया कि भाजपा की सीटों में भी इस बार देश भर में 10 से प्रतिशत की बढ़ोतरी होने जा रही है। भाजपा अकेले 333 से 345 सीटें जीत सकती है और यह संख्या 350 तक भी जा सकती है।

कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के दावे पर कटाक्ष करते हुए पुरी ने कहा कि खड़गे ने जो 295 प्लस सीटों का दावा किया है, वह मुंगेरीलाल के हसीन सपने के जैसा ही है। कांग्रेस 328 सीटों पर ही चुनाव लड़ रही है और उसमें से उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों में कांग्रेस के पास कुछ है ही नहीं।

उन्होंने कहा कि एक तरफ जहां भाजपा मोदी सरकार द्वारा किए गए विकास के कामों की बात कर रही है और तीसरी बार सरकार बनाने के बाद उनकी सरकार उन्ही कामों को आगे बढ़ाएगी, जबकि विरोधी दल खटाखट और फटाफट की बात कर रहे हैं। चुनाव के नतीजे जैसे ही आएंगे, वैसे ही राहुल गांधी तो थाईलैंड, स्पेन या जहां भी उन्हें जाना होगा, चले जाएंगे और जवाब तो मल्लिकार्जुन खड़गे को ही देना होगा।