कर्नाटक अश्लील वीडियो मामला : अपहरण व यौन उत्पीड़न के आरोपों से एचडी रेवन्ना का इनकार

0
11

बेंगलुरु, 5 मई (आईएएनएस)। विशेष जांच दल (एसआईटी) की पूछताछ के दौरान पूर्व मंत्री और जद(एस) विधायक एच.डी. रेवन्ना ने अश्लील वीडियो मामले की पीड़िता के अपहरण और यौन उत्पीड़न के आरोपों से इनकार किया है। मामले में उनके बेटे, मौजूदा सांसद और हासन लोकसभा सीट से एनडीए उम्मीदवार प्रज्वल रेवन्ना पर भी आरोप है। यह जानकारी सूत्रों ने रविवार को दी।

लेखिका और कार्यकर्ता गौरी लंकेश की सनसनीखेज हत्या के मामले को सुलझाने वाली टीम का नेतृत्व करने वाले वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी एसआईटी प्रमुख बी.के. सिंह व्यक्तिगत रूप से रेवन्ना से पूछताछ की निगरानी कर रहे हैं।

पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा के पुत्र एच.डी. रेवन्ना शनिवार से एसआईटी की हिरासत में हैं।

अधिकारियों ने पूरी रात एचडी रेवन्ना से पूछताछ की और रविवार सुबह भी पूछताछ जारी रखी। सूत्रों ने बताया कि रेवन्ना ने कहा कि वह किसी भी मामले में शामिल नहीं थे और यह उन्हें और उनके परिवार को खत्म करने की साजिश है।

सूत्रों ने यह भी कहा कि एचडी रेवन्ना को सवालों का उत्तर लिखने के लिए कलम और कागज दिया गया, लेकिन उन्होंने कुछ भी लिखने से इनकार कर दिया और कहा कि वह मामलों से जुड़े नहीं हैं।

अधिकारियों ने उनसे उनके बेटे प्रज्वल रेवन्ना के ठिकाने के बारे में भी पूछताछ की है, जो फरार है। सूत्रों ने बताया कि अधिकारियों ने एचडी रेवन्ना का मोबाइल फोन ले लिया है और उनके बेटे प्रज्वल रेवन्ना की गतिविधियों के बारे में सुराग पाने का प्रयास किया जा रहा है।

सूत्रों ने बताया कि रेवन्ना को शनिवार रात एक बिस्तर दिया गया और आपराधिक जांच विभाग (सीआईडी) के अधिकारियों के एक कमरे में रखा गया। अन्य गिरफ्तार राजनीतिक दिग्गजों और वरिष्ठ अधिकारियों को भी इसी तरह की सुविधा प्रदान की गई थी। सीआईडी भवन में रहने के दौरान रेवन्ना शांत थे।

रेवन्ना पर उनकी एक पूर्व नौकरानी ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। एक अन्य मामले में, उन पर अपने बेटे प्रज्वल रेवन्ना से जुड़े सेक्स स्कैंडल के पीड़ितों में से एक का अपहरण करने का आरोप है।

एचडी रेवन्ना के पीए राजगोपाल के फार्महाउस से बचाई गई पीड़िता से एसआईटी को अधिक जानकारी मिलने की संभावना है। आरोपी राजगोपाल को भी एसआईटी ने गिरफ्तार किया है।

अधिकारियों को रविवार शाम तक एचडी रेवन्ना को मजिस्ट्रेट के सामने पेश करना होगा। सूत्रों ने बताया कि उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजे जाने की पूरी संभावना है।