‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ के लिए मनोज बाजपेयी को मिला मूवीफाइड बेस्ट एक्टर अवॉर्ड

0
16

मुंबई, 1 जून (आईएएनएस)। अपनी हालिया रिलीज ‘भैया जी’ के लिए काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया बटोरने वाले बॉलीवुड एक्टर मनोज बाजपेयी ने ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ में अपने काम के लिए मूवीफाइड बेस्ट एक्टर अवॉर्ड अपने नाम किया है।

बता दें कि ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ और ‘भैया जी’ दोनों का ही निर्देशन अपूर्व सिंह कार्की ने किया है।

अवॉर्ड मिलने पर आभार व्यक्त करते हुए मनोज ने कहा, ”इस सम्मान के लिए मूवीफाइड, दर्शकों और मेरे लिए वोट करने वाले सभी लोगों का शुक्रिया। मुझे ‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ के लिए सर्वश्रेष्ठ अभिनेता का पुरस्कार मिला। मार्केट में बहुत कम वास्तविक पुरस्कार हैं, लेकिन जब आपको कोई ऐसे पुरस्कार मिलता है तो आपकी खुशी की कोई सीमा नहीं होती।”

फिल्म उद्योग की चकाचौंध और ग्लैमर के बीच अभिनेता ने विनम्रतापूर्वक अपनी सफलता के पीछे के गुमनाम नायकों और अपने परिवार का नाम लिया।

उन्होंने कहा, “मैं यह पुरस्कार अपने परिवार को समर्पित करता हूं। वे मेरे जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, वह मेरा ख्याल रखते हैं ताकि मैं बाहर जा सकूं और वास्तव में काम में खुद को डुबो सकूं।”

मनोज बाजपेयी ने अपूर्व सिंह कार्की के प्रति भी आभार व्यक्त करते हुए कहा कि अपूर्व सिंह कार्की एक युवा निर्देशक हैं, जिन्होंने मुझे उस समय बहुत सहयोग दिया जब मैं दीपक किंगरानी नामक लेखक और सह-कलाकार की भूमिका निभा रहा था।”

‘सिर्फ एक बंदा काफी है’ एक कोर्टरूम ड्रामा थ्रिलर है। इसमें मनोज बाजपेयी ने एक वकील की भूमिका निभाई है। फिल्म की कहानी एक सच्ची घटना पर आधारित है, जिसे जोधपुर पर दर्शाया गया है। मनोज बाजपेयी इसमें एक बेहद पॉवरफुल कथावाचक और संत के खिलाफ केस लड़ते हैं जिस पर एक बच्ची के यौन शोषण का आरोप है। इसमें एक्टर ने अपने दमदार अभिनय का प्रदर्शन किया है।

वहीं बॉलीवुड एक्ट्रेस रानी मुखर्जी को भी ‘मिसेज चटर्जी वर्सेज नॉर्वे’ के लिए मूवीफाइड बेस्ट एक्टर अवॉर्ड मिला है।

इस फिल्म में एक मां की कहानी दिखाई गई है जो अपने बच्चे की कस्टडी पाने के लिए नॉर्वे की कानूनी व्यवस्था से लड़ती हुई नजर आती है।

मूवीफाइड एक ऐसा मंच है जो अंतरराष्ट्रीय फिल्मों और डिजिटल सामग्री को कवरेज देता है।