धर्म नहीं, कांग्रेस व बीजेपी का अस्तित्व खतरे में : आरजीपी

0
8

पणजी, 9 मई (आईएएनएस) रिवोल्यूशनरी गोअन्स पार्टी (आरजीपी) ने गुरुवार को भाजपा और कांग्रेस पर तंज करते हुए आरोप लगाया कि दोनों दलों ने लोगों के बीच ‘धर्म खतरे में है’ कहकर डर पैदा किया और चुनाव लड़ा।

आरजीपी सुप्रीमो मनोज परब ने विधायक वीरेश बोरकर के साथ एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा,“पहले चुनाव धार्मिक आधार पर नहीं लड़े जाते थे, अब राजनीतिक दल ‘धर्म खतरे में है’ कहकर वोट मांगते हैं। कांग्रेस और भाजपा दोनों ने मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए ऐसा किया।”

उन्होंने कहा कि धार्मिक आधार पर वोट मांगना खतरनाक है।

“कांग्रेस और भाजपा के नेताओं ने वोट मांगने के लिए धर्म का इस्तेमाल किया। कोई भी धर्म खतरे में नहीं है, खतरे में इन दोनों राजनीतिक दलों का अस्तित्व है। इसलिए, ये धर्म का उपयोग कर रहे हैं। अगर ऐसा ही चलता रहा, तो गोवा में भी दंगे होंगे।”

उन्होंने कहा,” धर्म की रक्षा भगवान करेंगे। हमें उन पर विश्वास रखना चाहिए, न कि धर्म के आधार पर वोट मांगने वाले नेताओं पर।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस और भाजपा गोवा के मुद्दों को उठाने में विफल रहे हैं।

परब ने कहा कि उनकी पार्टी का राज्य की दोनों लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने का मुख्य कारण स्थानीय मुद्दों को संसद में उठाना है।

विधायक बोरकर ने कहा कि आरजीपी गोवा की पहचान की रक्षा के लिए काम कर रही है। भाजपा और कांग्रेस ने चुनाव प्रचार के दौरान हमें बदनाम करने की कोशिश की। लेकिन हमारे कार्यकर्ताओं ने राज्य के हित के लिए अभियान चलाया।